भारतीय क्रिकेट को रीसेट करने का शानदार मौका

रोहित शर्मा और राहुल द्रविड़ की नई कप्तान-कोच जोड़ी के राष्ट्रीय टी20 टीम की कमान संभालने के साथ, भारतीय क्रिकेट के लिए एक नया चरण शुरू हो गया है। विराट कोहली, रवींद्र जडेजा, जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी जैसे प्रमुख खिलाड़ियों के आराम करने और हार्दिक पांड्या को बाहर करने के साथ, नए प्रबंधन के पास न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की श्रृंखला के लिए कई नए चेहरों को आजमाने का मौका है। नई प्रतिभाओं के साथ अनुभव का संयोजन द्रविड़ के लिए एक चुनौती होगी क्योंकि वह खेल के तीन संस्करणों के लिए भविष्य की भारतीय टीमों के निर्माण के लिए काम करते हैं।

जब वे सेमीफाइनल में पहुंचे तो न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया जैसे अन्य देशों का कमांडिंग प्रदर्शन भारत की क्षमता के विपरीत था, जब वे शीर्ष-बिल वाली टीमों के साथ खेल रहे थे। हाई-स्टेक नॉकआउट गेम खेलते हुए आत्मविश्वास खोना प्रबंधन की प्राथमिकताओं में से एक होना चाहिए क्योंकि आगामी टी 20 और एकदिवसीय विश्व कप 2022 और 2023 में आ रहे हैं।

यहां पढ़ें: राहुल द्रविड़ के कार्यकाल की शुरुआत न्यूजीलैंड सीरीज के लिए टी20 टीम की जोरदार मांग के साथ

विश्व कप में भारत का 10 साल का सूखा उस विशाल प्रतिभा और बेंच स्ट्रेंथ के विपरीत है जिसे उसने हाल के वर्षों में बनाया है, खासकर तेज गेंदबाजी विभाग में। अतीत में, वेस्टइंडीज (1975-1982), ऑस्ट्रेलिया (1999-2007) और भारत (2009-2011) जैसी चैंपियन टीमों को खेल के सभी रूपों में विरोधियों को कुचलने की आदत रही है। समकालीन युग भारत के लिए विश्व क्रिकेट पर अपना प्रभुत्व फिर से स्थापित करने के अवसर प्रस्तुत करता है, हालांकि प्रतिस्पर्धा भी बढ़ रही है। भारत को इस चुनौती का सामना करना होगा।



लिंक्डइन




लेख का अंत



Dev

Leave a Reply

Your email address will not be published.